– लोग चीखते रहे है, लेकिन न लोगों की आवाज सुनी और न ट्रेन का हॉर्न

रामनगर, डीडीसी। घर से मजदूरी करने निकला युवक लौट कर घर नहीं पहुंचा। क्योंकि वो कान में ईयरफोन लगाकर युवक रेलवे ट्रैक पर चल रहा था और पीछे से ट्रेन आ रही थी। लोग आवाज लगा रहे थे, लेकिन कान में ईयरफोन होने की वजह से न उसने चीख रहे लोगों की आवाज सुनी और न ट्रेन का हॉर्न। ट्रेन उसे रौंद कर निकल गई और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। हादसा रामनगर के पीरुमदारा स्थित रेलवे हाल्ट के पास हुआ।

जिंदगी पर भारी पड़ा शार्ट कट रूट
मधुबन कालानी पीरूमदारा निवासी सुरेंद्र सिंह (26) पुत्र स्वराज सिंह पेशे से पेंटर है। बताया जाता है कि रोज की तरह मंगलवार की सुबह भी सुरेंद्र घर से काम के लिए निकला था। आज उसने काम पर जाने के लिए शॉर्टकट रूट लिया और रेलवे ट्रैक से होकर गुजरने लगा। पैदल कदमों से आगे बढ़ता सुरेंद्र मोबाइल पर गाने का लुफ्त ले रहा था और कान में ईयरफोन लगा रखा था। वह इस बात से अंजाम था कि पीछे से कोई ट्रेन भी आ सकती है।

बार-बार हॉर्न दे रही थी ट्रेन, लेकिन
गाने सुनता सुरेंद्र तेज कदमों से आगे बढ़ रहा था और तभी पीछे से ट्रेन आ गई। ट्रेन ने कई बार हॉन दिया। जब हॉर्न लगातार बजने लगा तो आस-पास मौजूद लोगों की निगाह ट्रैक पर चल रहे सुरेंद्र पर पड़ी। ये देख लोगों ने चीखना शुरू कर दिया, लेकिन ईयरफोन पर बज रहे तेज संगीत की वजह से न तो सुरेंद्र लोगों की आवाज सुन पाया और न ही ट्रेन का तेज हॉर्न।

--Advertisement--

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here