– एक ढाबे के बाहर हत्यारों ने कार के नीचे कुचल कर मार डाला

चंडीगढ़, डीडीसी। साल में 365 दिन होते है और आज तो बमुश्किल शादी के 364 दिन गुजरे थे। इस दिन का उसे बेसब्री से इंतजार था। हो भी क्यों ना, आखिरकार आज उसकी शादी की पहली सालगिरह थी। पति उसे सबसे नायाब तोहफा देने वाला था, लेकिन पता नही था कि तोहफा देने वाला उसका पति कफ़न में लिपटा उसके सामने आएगा। इस घटना ने खुशियों के घर को गमगीन कर दिया। कातिलों ने एक मामूली बात पर इसे गाड़ी के नीचे कुचल कर मार डाला।
पंजाब के कपूरथला जिले के लल्लरियां मोहल्ला सुल्तानपुर लोधी निवासी रविंदर कुमार उर्फ रिक्की की शादी ठीक एक साल पहले हुई थी। यानी बीते मंगलवार को उसकी शादी की पहली सालगिरह थी। इसकी सबसे ज्यादा खुशी रविंदर की पत्नी को थी। वजह कि रविंदर ने वादा किया था कि पहली सालगिरह पर वो पत्नी को नायाब तोहफा देगा। ताकि वो तोहफे को उम्र भर याद रख सके, लेकिन ऐसा हो नही सका। बताया जाता है कि शादी की सालगिरह से ठीक एक दिन पहले रविंदर सोमवार की रात करीब नौ बजे अपने दोस्त हरकीरत सिंह के साथ कैनेडियन ढाबे पर खाना खाने गया था। इसी ढाबे में पंडोरी मोहल्ला निवासी हरप्रीत सिंह उर्फ हैप्पी व उसका भाई जसपाल सिंह अपने साले ओंकार सिंह निवासी सैफलाबाद के साथ खाना खा रहा था। यहां खाना खाने के दौरान दोनों पक्षों में किसी बात को लेकर विवाद हो गया। बात इतनी बढ़ी कि झगड़ा शुरू हो गया। इतने में हरप्रीत ने अपने कुछ और साथियों को भी बुला लिया। बात इतनी बिगड़ गई कि तैश में आकर हरप्रीत ने रविंदर और उसके दोस्त पर गाड़ी चढ़ा दी। जिससे रविंदर की मौके पर ही मौत हो गई और उसका दोस्त हरकीरत बुरी तरह घायल हो गया। इधर, अगले दिन सुबह यानी शादी की सालगिरह पर जब रविंदर की लाश घर पहुंची तो खुशियां मातम में तब्दील हो गईं।

पुरानी रंजिश बनी हत्या की वजह
पूरे मामले में पुलिस ने मृतक रविंदर के भाई अमनदीप कुमार के बयान पर आरोपी दोनों भाइयों और उसके साले समेत तीन-चार अन्य के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है। दोनों आरोपी भाइयों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि बाकी की तलाश में पुलिस की दबिश जारी है। वारदात में इस्तेमाल कार पुलिस के कब्जे में है। पुलिस का कहना है कि दोनों पक्षों के बीच पुरानी रंजिश है और इसी वजह से पूरी वारदात को अंजाम दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here